Enquire Now!
Welcome Guest

पर्यावरणीय विधि का कानूनी परिचय

 

जलवायु परिवर्तन एक वास्तविक तथा वैश्विक तथ्य है। जहाँ विकसित अर्थव्यवस्थाएँ लम्बे समय से पर्यावरण के लिए प्रयासों के विपरीत दिशा में हैं, वहीँ विकासशील अर्थव्यवस्थाएँ पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव को अनदेखा कर विकसित अर्थव्यवस्थाओं के साथ आगे बढ़ रहीं हैं। हांलांकि, जलवायु परिवर्तन को रोकने अथवा पलटने के निरंतर प्रयास भी स्थिर जीवन को प्रोत्साहित करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समझौतों, कानूनों तथा संधियों को बनाने पर ज़ोर दे रहे हैं। दुनिया भर में सरकारें, , बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ, तथा पर्यावरणीय निकाय शोधकर्ताओं तथा वकीलों को उनकी विशेषज्ञताओं का उपयोग अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरणीय कानून को क्षेत्र में सबसे अधिक मांग में रहने वाला बनाने के लिए मांग तथा प्रोत्साहित करतें हैं।

यह पाठ्यक्रम आपको क़ानूनी शब्दावली, मूल सिद्दांतों तथा एजेंसियों जो उचित कार्य तथा चार्ट के विकास तथा वैश्विक स्तर पर सामना किये जाने वाले पर्यावरणीय परिवर्तन पर नज़र रखतीं हैं, के साथ अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरणीय कानूनों की पृष्ठभूमि प्रदान करता है। यह उन संधियों तथा समझौतों पर चर्चा करता है जिन्हें मनुष्य द्वारा की गयी क्षति को कम करने, पारिस्थिति को सुरक्षित करने तथा उसे सुरक्षित करने के लिए मॉडल तैयार करने के लिए बनाया गया है। शोधकर्ता, वकील तथा सलाहकार इस पाठ्यक्रम को विषय में अपने ज्ञान के आधार का विकास करने में, लाभकारी पाएगें।

पाठ्यक्रम का परिणाम

 
 

इस पाठ्यक्रम के समाप्त होने पर, आप सक्षम होंगें:

  • अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरणीय कानूनों तथा उसके सिद्दांतों की प्रणाली को समझना
  • यूएनईपी की भूमिका तथा कार्य का वर्णन
  • पर्यावरण को सुरक्षित करने के लिए की गयी विभिन्न संधियों, व्यवस्थाओं तथा समझौतों के महत्व का वर्णन
  • स्थिर जीवन की सलाह तथा बढ़ावा देना

पाठ्यक्रम की रूपरेखा

 
 
  • मोड्यूल 1 – अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरणीय कानूनों का परिचय
  • मोड्यूल 2 – जल तथा वायु प्रदुषण पर अंतर्राष्ट्रीय कानून
  • मोड्यूल 3 – वनस्पतियों तथा जीवों पर अंतर्राष्ट्रीय शासन
  • मोड्यूल 4 – पर्यावरण सुरक्षा तथा जलवायु परिवर्तन पर अंतर्राष्ट्रीय कानून
  • मोड्यूल 5 – पारंपरिक ज्ञान
  • मोड्यूल 6 – ऊर्जा, जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण
  • पर्मंपत्र परीक्षा/ मूल्यांकन

CERTIFICATION

 

Honors Badge

किसको यह पाठ्यक्रम लेना चाहिए?

  • वकील, क़ानूनी परामर्शदाता तथा सलाहकार
  • शोध छात्र
  • पर्यावरणविदों और पारिस्थितिकीविदों
  • अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरणीय कानूनों के साथ स्वयं का परिचय करने के इच्छुक अन्य हितधारक.

स्तर: शुरुआत

भाषा: हिन्दी

अवधि: 6 महीने

आंकलन विधि

पाठ्यक्रम का प्रमाण पत्र हासिल करने के लिए, पाठ्यक्रम के अंत में शिक्षार्थी का सभी असाइनमेंट्स का जमा करवाना तथा प्रमाण पत्र परीक्षा में कम से कम 50% अंक अर्जित करना अनिवार्य है।

लेखक के बारे में

एन्विरो लीगल डिफेन्स फर्म (ईएलडीएफ) 2 अक्टूबर, 1999 को स्थापित पर्यावरण और विकास कानून पर अनुसंधान प्रदान करने के लिए भारत की पहली पर्यावरण कानून फर्म है, जिसका उपयोग ग्रामीण और शहरी दोनों सेटिंग्स में किया जा सकता है, प्रशिक्षण मॉड्यूल विकसित किया जा सकता है और युवाओं को प्रोत्साहित करने के लिए एक मंच प्रदान किया जा सकता है। वकील पर्यावरण और विकास के क्षेत्र का चयन करने के लिए। ईएलडीएफ की कानूनी कानूनी पेशेवरों की टीम में ईशा कृष्ण पर्यावरण, वन्यजीवन और संरक्षित क्षेत्रों पर एक विशेषज्ञ शामिल हैं; सलीक शाफिक, वनीकरण, शासन और पर्यावरण मंजूरी पर एक विशेषज्ञ; पानी और वाटरशेड प्रबंधन के विशेषज्ञ उपमा भट्टाचार्य, और वायु और शोर प्रदूषण से संबंधित कानून; कीथ वर्गीस, महासागरों, बंदरगाहों, वायु और शोर प्रदूषण, और वन्यजीवन पर एक विशेषज्ञ; ईशान चतुर्वेदी, जिनकी विशेषज्ञता विशेषज्ञता अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण कानून, नवीकरणीय ऊर्जा, जलवायु परिवर्तन और जैव विविधता में स्थित है; कृष्ण श्रीनिवासन, विकेन्द्रीकृत शासन और आदिवासी समुदायों के विशेषज्ञ; और श्यामा कुरियकोस, जिनके हित के क्षेत्र वानिकी, जैव विविधता, विकेन्द्रीकरण और आत्म शासन, महासागर, वन्यजीवन और पारंपरिक ज्ञान हैं।

Learners who viewed in this course, also viewed:

Let’s Start Chatbot